भारतीय इतिहास Question | Indian history in hindi – history gk

भारत एवं विश्व के प्रमुख धर्म – भारत के प्रमुख धर्म कौन कौन से हैं

प्रश्न, 151 : भागवत धर्म के प्रवर्तक कौन थे।
उत्तर  =    कृष्ण


प्रश्न, 152 : भागवत धर्म का प्रधान ग्रन्थ है।
उत्तर  =    श्रीमदभागवत

प्रश्न, 153 : भागवत धर्म का सबसे महत्वपूर्ण ग्रन्थ है।
उत्तर  =    पुराण

प्रश्न, 154 : श्रीमदभागवत की रचना किसने की है।
उत्तर  =    बेदव्सास ने

प्रश्न, 155 : ब्राहाण ग्रन्थों में सर्वाधिक प्राचीन है।
उत्तर  =    शतपथ बा्रहाण

प्रश्न, 156 : पुराणों की संख्या है।
उत्तर  =    18

प्रश्न, 157 : बेदांगो की संख्या है।
उत्तर  =    6

प्रश्न, 158 : जैन धर्म के प्रवर्तक माने जाते है।
उत्तर  =    महावीर स्वामी

प्रश्न, 159 : जैन धर्म के प्रथम तीर्थकर थे।
उत्तर  =    ऋषभदेव

प्रश्न, 160 : जैन तीर्थकरों के क्रम में अंतिम कौन थे।
उत्तर  =    महावीर स्वामी

प्रश्न, 161 : जैन मतानूसार उनके अन्तिम से एक पहले तीर्थकर कौन थें।
उत्तर  =    पार्श्वनाथ

प्रश्न, 162 : जैन धर्म के 24वें तीर्थकरों में अन्तिम कौन थें
उत्तर  =    महावीर स्वामी

प्रश्न, 163 : जैन धर्म का वास्तविक संस्थापक किसे माना जाता है।
उत्तर  =    महावीर को

प्रश्न, 164 : जैन धर्म का आधारभूत बिन्दु  है।
उत्तर  =    आहिंसा

प्रश्न, 165 : तीर्थकर शब्द सम्बन्धित है।
उत्तर  =    जैन धर्म से

प्रश्न, 166 : स्यादवाद किस धर्म का मूलाधार था।
उत्तर  =    जैन धर्म का

प्रश्न, 167 : जैन धर्म के पांच ब्रतों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण व्रत है।
उत्तर  =    अहिंसा

प्रश्न, 168 : जैन तीर्थकर पार्श्वनाथ द्वारा प्रतिपादित चार महाव्रतों में महावीर स्वामी ने 5वें व्रत के रूप में जोडा
उत्तर  =    ब्रहाचर्य

प्रश्न, 169 : जैन साहित्य को क्या कहा जाता है।
उत्तर  =    आगम

प्रश्न, 170 : जैन धर्म का सबसे महत्वपूर्ण ग्रन्थ है।
उत्तर  =    कल्प सूत्र

प्रश्न, 171 : आदि जैन ग्रन्थों की भाषा क्या थी।
उत्तर  =    प्राकृत

प्रश्न, 172 : बौद्व धर्म के प्रवर्तक कौन हैै।
उत्तर  =    गौतम बुद्व

प्रश्न, 173 : भरहुत भूमि संबंधित है।
उत्तर  =    बौद्व  धर्म से

प्रश्न, 174 : लुम्बिनी एक धार्मिक ग्रन्थ है।
उत्तर  =    बौद्वा का

प्रश्न, 175 : बौद्व धर्म की किस एक शाखा में तंत्र हठयोग एवं तांत्रिक आचारों की प्रधानता है।
उत्तर  =    बज्रयान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *